Friday, September 30UAM - UDYAM-BR-13-0006027

खुशखबरी-रामगढ़ताल में लगेगा देश का सबसे ऊँचा वाटर जेट फाउंटेशन, आकर्षण होगा नजारा, चिन्हित हुई जगह

गोरखपुर के रामगढ़ ताल को और आकर्षक बनाने के लिए एक शानदार योजना तैयार किया गया है। आपको बता दें कि इस योजना के अनुसार रामगढ़ ताल में वाटर जेट फाउंटेशन लगाया जाएगा।  मिली खबर के अनुसार मुख्यमंत्री योगी और शासन से इसकी स्वीकृति मिलने के बाद पर्यटन विभाग ने इस योजना के प्रति कदम बढ़ा दिया है वही इस्टीमेट तैयार हो गया है अब डीपीआर बनाने की तैयारी चल रही है।

देश का सबसे ऊंचा, 80 मीटर ऊंची वाटर फाउंडेशन लगाने की है तैयारी

आपको बता दें कि इसकी ऊंचाई 80 मीटर होगी विभाग के अनुसार यह वाटर जेट फाउंटेशन देश का सबसे ऊंचा वाटर फाउंटेशन होगा। इस फाउंडेशन को बनाने के पीछे शासन और पर्यटन विभाग की मंशा यह है कि पर्यटन मानचित्र में रामगढ़ ताल को राष्ट्रीय स्तर पर स्थापित किया जा सके। इस फाउंटेशन के कई प्रकृतिक फायदे भी पर्यटन विभाग बता रहा है उनके अनुसार फाउंटेशन के चलते 4.8 एमएलडी यानी मिलियन लीटर पर डे पानी प्रतिदिन परिचालित होगा इससे यह फायदा होगा कि पानी में घुलित ऑक्सीजन में वृद्धि होगी और झील का पानी भी प्रदूषण नियंत्रित होगा।

जानिए कहा होगा स्थापित, चिन्हित हुई जगह 

सीएम व शासन की स्वीकृति मिल चुकी है मिली जानकारी के अनुसार बता दें कि इसे तैयार करने में करीब 14 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। पर्यटन विभाग के द्वारा इस वाटर जेट फाउंटेशन के लिए ताल में जगह भी चिन्हित कर लिया है बता दें कि फाउंडेशन सर्किट हाउस के सामने की सड़क से 250 मीटर ताल के अंदर रहेगा। ताल में इसकी जगह यह ध्यान में रखते हुए चिन्हित गया है कि सड़क व जेटी पर पर्यटक खड़े होकर फाउंटेशन की खूबसूरती का आनंद उठा सकें। फाउंडेशन को पर्यटकों को सतरंगी दिखाने के लिए विशेष व्यवस्था होगी।

पहले से रामगढ़ ताल में संचालित होता है एक फाउंटेशन

जैसा कि आप जानते हैं ताल में 2 वर्षों से एक फाउंटेशन का संचालन हो रहा है।  नया स्थापित होने वाला यह जेट फाउंटेशन रामगढ़ ताल का दूसरा वाटर जेट फाउंडेशन होगा।

रविंद्र कुमार मिश्र, क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी

पर्यटन अधिकारी के अनुसार गोरखपुर में रामगढ़ ताल झील के सहारे पर्यटकों की संख्या बढ़ाने के लिए ताल में देश के सबसे ऊंचे वाटर जेट फाउंटेशन को लगाने की योजना तैयार किया गया है।  पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी तो स्थानीय रोजगार भी बढ़ेगा। वही इस योजना के लिए डीपीआर तैयार हो रहा है और कोशिश है कि अगले वर्ष की शुरुआत में योजना को कार्य रूप देने की शुरुआत हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.