Tuesday, October 4UAM - UDYAM-BR-13-0006027

गोरखपुर में रामगढ़ताल के अलावा एक और खूबसूरत जगह का कार्य शुरू, दो पुलों का भी होगा निर्माण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का सपना गोरखपुर को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करना, रामगढ़ ताल के नाम से जाना जाने वाला एक मामूली से जलाशय को देखने के लिए तथा आनंद उठाने के लिए शहर वासियों के अलावा अन्य जिलों से भी लोग पहुंच रहे हैं। यह सपना अब साकार होता दिख रहा है, गोरखपुर में स्थित रामगढ़ ताल को कुछ इस प्रकार विकसित किया गया जहां पर फूड पार्क वाटर स्पोर्ट्स की सुविधा, पानी में तैरते हुए रेस्टोरेंट में भोजन करने का, इसके अलावा लग्जरी क्रूज का आनंद भी जल्द ही गोरखपुर वासी उठा सकेंगे।

 

 

हम बात कर रहे हैं रामगढ़ ताल के नजदीक स्थित एक और जलाशय की जिसकी टेंडर प्रक्रिया गोरखपुर विकास प्राधिकरण द्वारा शुरू की जा चुकी है। 42 एकड़ में फैले वाटर बॉडी जलाशय की सुंदरीकरण का कार्य जल्द ही शुरू होने वाला है। गोरखपुर विकास प्राधिकरण द्वारा दिए गए प्लान के अनुसार इस जलाशय के चारों तरफ तकरीबन 6 किलोमीटर लंबा पाथ-वे का निर्माण किया जाएगा, तथा इसके अलावा इसके चारों तरफ कुछ दूरी के अंतराल पर बैठने के लिए बेंच भी बनाई जाएंगी।

 

गोरखपुर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष प्रेम रंजन सिंह ने वाटर बॉडी जलाशय में फैले जलकुंभी को पहले ही हटाने का निर्देश दिया था जिसे हटा भी लिया गया है। गोरखपुर विकास प्राधिकरण के द्वारा तैयार परियोजना के अनुसार ढाई मीटर चौडे पाथ-वे का निर्माण वाटर बॉडी जलाशय के चारों ओर किया जाएगा 6 किलोमीटर लंबे इस पाथ-वे पर लोग आसानी से टहल सकेंगे तथा यह ट्रैक गोरखपुर शहर के सबसे बड़े ट्रक में शामिल हो जाएगा।

 

जीडीए के इस परियोजना में छोटी-छोटी नाव पर परिचालन का भी प्लान शामिल किया गया है, स्ट्रीट लाइट से लैश तथा ट्रैक के किनारे फूलों का आकर्षण एवं कुछ अंतराल पर लगाई गई बेंच पर बैठकर लोग प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद उठा सकेंगे। मिली जानकारी के अनुसार वाटर बॉडी के रखरखाव की जिम्मेवारी एक होटल को दी जाएगी तथा इस पार्क के सुंदरीकरण के कार्य पर तकरीबन 10 करोड़ रुपए खर्च किए जाने का अनुमान है वाटर बॉडी जहां से शुरू होती है वहां से लेकर अंतिम छोर तक छोटी नाव का संचालन किए जाने का मुख्य प्लान शामिल किया गया है।

 

इस परियोजना में दो पुलों का निर्माण कार्य भी शामिल किया गया है, जिसमें पहला पुल योगीराज बाबा गम्भीरनाथ प्रेक्षागृह के पीछे से वसुंधरा एंक्लेव तक निर्माण किया जाएगा, इसके निर्माण हो जाने से देवरिया बाईपास तक पहुचने के लिए लोगों को अत्यंत आसानी होगी। तथा दूसरा पूल एक पैदल पूल है जिसका निर्माण वाटर बॉडी के प्रारंभिक बिंदु से नौकायन तक किया जाएगा।
साभार : अमर उजाला २२ अगस्त 04:15PM

Leave a Reply

Your email address will not be published.