Saturday, October 1UAM - UDYAM-BR-13-0006027

न्यू गोरखपुर का प्लान हुआ तैयार, इन अत्याधुनिक सुविधाओं से लैश होगा नया गोरखपुर जानिए

गोरखपुर :- वर्ष 2050 तक की ज़रूरतों और बदलावों को ध्यान में रखते हुए गोरखपुर विकास प्राधिकरण द्वारा गोरखपुर शहर की रूपरेखा बदलने हेतु कंसलटेंट नियुक्त कर एक  सीडीपी (सिटी डेवलपमेंट प्रोजेक्ट) यानी कि नगर विकास योजना तैयार करवाया गया है । जिसे अंतिम रूप देते हुए कंसल्टेंट द्वारा प्राधिकरण को सौंप दिया गया है, जिसके बाद इसे जल्द ही जीडीए बोर्ड से पास करा कर शासन को भेजे जाने की योजना है, जैसे ही शासन से स्वीकृति मिलती है ,सीडीपी के अनुसार शहर को बदलने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

 

बताया जा रहा है कि शासन द्वारा प्रदेश के जिन शहरों के विकास के लिए सीडीपी तैयार करने का निर्देश दिया गया था, उनमें कुल 14 शहरों के नाम शामिल है । इसी कड़ी में जीडीए द्वारा गोरखपुर के विकास के लिए सिटी डेवलपमेंट प्रोजेक्ट तैयार की जा चुकी है । बताया जा रहा है कि महायोजना 2031 को ध्यान में रखते हुए इस योजना को तैयार किया गया है, जिसके अनुसार शहर का विकास किया जाने वाला है। आपको बता दें कि इस योजना में कई सेवाओं को बेहतर बनाने के सुझाव शामिल किए गए हैं, जिनमें शहर की यातायात, शिक्षा एवं स्वास्थ्य सेवाओं को जगह दी गई है। विगत कुछ दिनों पहले ही इस योजना का प्रस्तुतीकरण प्रमुख सचिव आवास के समक्ष किया गया था।

 

# किन प्रमुख बिंदुओं पर आधारित है सीडीपी___

सीडीपी में शहर को नए सिरे से विकसित करने की योजना शामिल है। फलमंडी, ट्रांसपोर्टनगर, वेयर हाउस को शहर से बाहर स्थानांतरण का सुझाव भी होगा। नए गोरखपुर की कार्ययोजना भी सीडीपी में शामिल की गई है। आध्यात्मिक शिक्षा, ट्रांसफरेबल डेवलपमेंट राइट (टीडीपी), पार्किंग को लेकर नीति, मीटर के जरिए जलापूर्ति, सोलर ऊर्जा का प्रयोजन, शून्य उत्सर्जन, सभी विभागों के बीच सूचना साझा करने के लिए कमांड एंड कंट्रोल सेंटर, नगर दिवस समारोह, जोनल प्लान, पीपीपी माडल नीति, सीवर व्यवस्था, ठोस अपशिष्ट रिसाइकिलिंग के उपचार के नए तरीके, पर्यटन विकास को भी सीडीपी में शामिल किया गया है। इसके साथ ही गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा) क्षेत्र में फूड प्रोससिंग पार्क की संभावनाएं एवं 2050 तक शहर के स्वावलंबन की संभावनाओं सहित अनेक विषयों को इस कार्ययोजना में समाहित किया गया है।

 

# जीडीए उपाध्यक्ष का बयान____

शहर के विकास को ध्यान में रखते हुए सीडीपी तैयार कर लिया गया है। जल्द ही जीडीए बोर्ड से पास कराकर इसे शासन को भेज दिया जाएगा। – प्रेम रंजन सिंह, उपाध्यक्ष, जीडीए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.