Friday, September 23UAM - UDYAM-BR-13-0006027

HOLI2022-ऐसे करे केमिकल युक्त और हर्बल रंगो की पहचान, नहीं तो हो सकते है कई सारी नुकसान

होली का त्यौहार बिना रंग गुलाल और अबीर के हम कल्पना भी नहीं कर सकते है। होली के त्यौहार में अब कुछ ही दिन रह गए हैं। बाजारो में तरह-तरह के रंग अबीर गुलाल बिकने भी शुरू हो गए हैं। ऐसे में रंगों से होली खेलने से पहले आपको रंगों का पहचान होना बेहद ही जरूरी है नहीं तो आपको रंगो से नुकसान पहुंच सकता है। होली में हर्बल रंगों से ही होली खेलने का ही सलाह दिया जाता है। क्योंकि बाजार में केमिकल युक्त रंग बिकते हैं जिससे आपकी त्वचा को नुकसान हो सकता है यही नहीं केमिकल युक्त रंगों से गंभीर एलर्जी भी हो सकते हैं। बाजारों में हर्बल रंग बोलकर केमिकल वाले रंग भी बेच दिए जाते हैं। रंग हर्बल है या केमिकल युक्त इसके पहचान कैसे करें हम आपको आगे बताएंगे।

केमिकल युक्त रंगो से हो सकते ये नुकसान-चर्म रोग विशेषज्ञों के अनुसार केमिकल युक्त रंगों से होली खेलने पर त्वचा को कई तरह के नुकसान हो सकते हैं। बाजारों में बिकने वाले सिंथेटिक रंगों को बनाने में प्रयोग कीए जाने वाले मैला काईट, कार्सिनोजेनिक, रोडा माइन जैसे विषाक्त केमिकल काफी हानिकारक होते हैं। वहीं अगर इन रंगों का इस्तेमाल होली खेलने में करने से कई गंभीर समस्या हो सकती हैं। जैसे त्वचा पर जलन और खुजली, एलर्जी और इंफेक्शन, आंखों में जलन, कैंसर और एक्जिमा , अस्थमा और फेफड़ों की समस्या।

ऐसे करे केमिकल युक्त और हर्बल रंगो की पहचान-
केमिकल युक्त रंगों का पहचान करना बहुत ही आवश्यक है नहीं तो आपको नुकसान हो सकता है। बाजारों में रंग खरीदते समय इसका पहचान करना बहुत ही जरूरी है। आपको बता दें कि केमिकल से बने रंगों का प्रयोग करने से त्वचा को नुकसान तो होता ही है इसके साथ-साथ पर्यावरण को भी नुकसान होता है। होली में रंगों के साथ साथ गुलाल और अबीर का भी इस्तेमाल होता है। इन केमिकल युक्त रंगों में ग्लास और डस्ट पार्टिकल मिले रहते हैं जो हवा को भी दूषित करते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार नकली और मिलावटी गुलाल के प्रयोग से हवा में pm10 की मात्रा बढ़ जाती है जिससे सांस लेने में कठिनाई होती है यही नहीं इससे फेफड़ों से जुड़ी समस्या भी होने का खतरा बढ़ जाता है। हर्बल गुलाल हल्का होने के साथ-साथ चिकना भी होता है इसमें चमक नहीं होती है। हर्बल गुलाल में सुगंध और स्वच्छता होता है और वही रंग गाढ़ा होता है। मार्केट में मिलने वाले साधारण गुलाल देखने में मैला दिखाई देता है इनमें रेत और बालू मिले होते हैं जिससे गुलाल भारी होता है। आपको बता दें कि रंगों से अगर पेट्रोल या स्प्रिट की स्मेल आ रही है तो समझ जाना चाहिए कि यह रंग मिलावटी हो सकता है। #HOLI2022

Leave a Reply

Your email address will not be published.