Sunday, October 2UAM - UDYAM-BR-13-0006027

COVID-19

आईआईटी कानपुर के बैज्ञानिक का दावा, इस महीने में आएगी कोरोना की चौथी लहार, पढ़िए पूरी खबर
COVID-19

आईआईटी कानपुर के बैज्ञानिक का दावा, इस महीने में आएगी कोरोना की चौथी लहार, पढ़िए पूरी खबर

भारत में कोरोनावायरस संक्रमण भले ही धीरे-धीरे कम हो रहा है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि कोरोनावायरस हमेशा के लिए चला गया है। हालही की हुई कानपुर आईआईटी की एक शोध में डरावना अध्ययन सामने आया है। कोरोनावायरस संक्रमण की चौथी लहर जून में आ सकती है। आपको बता दे कि आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिक ने दावा किया है कि कोरोना की चौथी लहर 22 जून से आ सकती है यही नहीं वायरस के चौथे लहर का पिक 23 अगस्त के आसपास होगा। वैज्ञानिकों का यह भी दावा है कि अक्टूबर के लास्ट के पहले सप्ताह तक वायरस का प्रभाव धीरे धीरे कम हो जाएगा। वैज्ञानिकों के द्वारा किया गया यह शोध वेबसाइट मेड आर्किव पर भी प्रकाशित किया गया है। यह दावा कितना सही होगा यह तो समय ही बताएगा। आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिक सूत्र मॉडल से वायरस की स्थिति बताने वाले ने अपनी मुहर इस पर नहीं लगाया है। उनका मानना है कि इस पर टिप्पणी करना जल्दी बाजी होगी क्योंकि यह...
जिले में संक्रमितों की संख्या 300 से पार, बहुत खतरनाक है कोरोना का नया वेरिएंट, जाने कैसे रखे खुदको स्वस्थ
COVID-19

जिले में संक्रमितों की संख्या 300 से पार, बहुत खतरनाक है कोरोना का नया वेरिएंट, जाने कैसे रखे खुदको स्वस्थ

Omicron Varriant symptoms and prevention-  कोरोनावायरस के नए वैरीअंट ओमीक्रोन के लक्षण तो बहुत ही नॉर्मल होता है लेकिन इसका संक्रमण बहुत ही तेजी से फैलता है इसलिए इसे हल्के में ना लें। एक्सपर्ट के अनुसार कोरोनावायरस संक्रमण से संक्रमित एक व्यक्ति लगभग 40 से अधिक लोगों को संक्रमण फैला सकता है। एक्सपर्ट बताते हैं कि जिनकी प्रतिरोधक क्षमता बहुत अच्छी है उनका यह वायरस कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा जबकि कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग के लिए खतरनाक है। बच्चे, बुजुर्ग और किसी गंभीर बीमारियों से पीड़ित व्यक्तियो के लिए भी घातक है। अगर किसी व्यक्ति को खांसी जुकाम के साथ-साथ हल्का बुखार गले में खराश हो तो तुरंत अपना टेस्ट करवाना चाहिए। थोड़ी सतर्कता बरत कर अपना और दूसरों को संक्रमण फैलाने से बचाया जा सकता है। आपको बता दे कि मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जिले में संक्रमितो की संख्या 300 से अधिक पार कर गया है।...
कोरोना के नए वेरिएंट फैल रहा तेजी से,ओमीक्रोने के मिले चार मरीज, नए वेरिएंट से इनलोगो को ज्यादा है खतरा, बरते सावधानी
COVID-19

कोरोना के नए वेरिएंट फैल रहा तेजी से,ओमीक्रोने के मिले चार मरीज, नए वेरिएंट से इनलोगो को ज्यादा है खतरा, बरते सावधानी

कोरोनावायरस अपना नए वेरिएंट के साथ अपना पैर फैलाना शुरू कर दिया है ऐसा लग रहा है कि कोरोना का तीसरा लहर आने ही वाला है। अगर आप लोग मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग और हैंड सेनीटाइजर का इस्तेमाल करना छोड़ दिया है तो फिर से इस्तेमाल करना शुरू कर दीजिए, क्योंकि कोरोना वायरस का नया वेरिएंट ओमीक्रोन के अभी तक देश में 4 संक्रमित मरीज मिल गए हैं। आपको बता दें कि बेंगलुरु में दो संक्रमित, गुजरात जामनगर में एक और महाराष्ट्र के मुंबई में एक संक्रमित मिले है। नए वेरिएंट के अभी तक 4 मरीजों की पुष्टि हुई है लेकिन हो सकता है कि आगे आने वाले कुछ दिनों में यह संख्या बढ़ कर हजारों और लाखों में भी हो सकता है इसलिए हमसभी को सभी को सतर्क रहने की जरूरत है। कानपुर के लोगों को ज्यादा सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि कानपुर शहर देश के बड़े औद्योगिक शहरों में से एक है। यही वजह है कि यहां लोगों का आना जाना कुछ ज्याद...
कोरोना से जान गवाने वाले परिवारों को केंद्र सरकार देगा मुआवजा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया निर्देश सरकार तय करे मुआवजा राशि
COVID-19

कोरोना से जान गवाने वाले परिवारों को केंद्र सरकार देगा मुआवजा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया निर्देश सरकार तय करे मुआवजा राशि

कोरोना महामारी ने पूरे दुनिया में कहर बर्षाया था वही अपने देश में भी तांडव करने के बाद अब कोरोना संक्रमण के मामले धीरे कम हो रहे है। लेकिन कोरोनावायरस से जान गवाने वाले लोगों के परिवार को सरकार द्वारा आर्थिक मदद किया जाएगा। हम आपको बता दें कि यह निर्देश सुप्रीम कोर्ट के द्वारा केंद्र सरकार को दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट द्वारा केंद्र सरकार को यह निर्देश दिया गया है कि 6 हफ्तों के भीतर इस पर कोई निर्णय जल्दी से जल्दी लिया जाए। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी निर्देश दिया है कि परिवार को कितना मुआवजा मिलना चाहिए यह भी केंद्र सरकार ही तय करें। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है की कोर्ट मुआवजा तय में नहीं करेगा बल्कि केंद्र सरकार अपनी रणनीति के अनुसार कोरोनावायरस संक्रमण से मरने वाले परिवार को सरकार मुआवजा तय कर सकती है। कोर्ट ने आगे कहा कि सरकार अपनी नीति के अनुसार सरकार के पास क्या संसाधन है उन सब के आधार पर...
कानपूर में जल्द लगया जायेगा रुसी वैक्सीन, पहली बार में आएगा दस हजार डोज, एक डोज के देने पड़ेंगे इतने रूपये
COVID-19

कानपूर में जल्द लगया जायेगा रुसी वैक्सीन, पहली बार में आएगा दस हजार डोज, एक डोज के देने पड़ेंगे इतने रूपये

Rusi Vaccine Sputnik V in Kanpur:- कानपूर शहर में कोरोना के वैक्सीन कोवैक्सीन और कोविशिल्ड लोगों को दिया जा रहा है। हम आपको बता दें कि आपको जानकर खुशी होगी कि अब शहर में बहुत ज्यादा रुसी वैक्सीन Sputnik V  आने वाला है। कोरोनावायरस से मानव जाति को बचाने के लिए रूस के द्वारा एक वैक्सीन तैयार किया गया है जिसका नाम स्पुतनिक वी है। आपको बता दें कि इस वैक्सीन को पूरे विश्व के 50 से अधिक देशों ने इस वैक्सीन को अप्रूवल दिया है। अब यह वैक्सीन भारत में भी तैयार किया जाएगा। लखनऊ स्थित अपोलोमेडिक्स में यह वैक्सीन आ गया है इस वैक्सीन को मंगवाने के लिए 10000 डोज के डिमांड पनकी स्थित नारायणा मेडिकल कॉलेज ने भेजा है। वही इसके बाद वैक्सीन को भेजने के लिए कंपनी ने 3 जुलाई तक ईमेल के जरिए जानकारी दिया है। पहली बार में मंगाए गए वैक्सीन को रखने के लिए अच्छे से व्यवस्था भी कर लिया गया है।हैदराबाद से डॉक्टर र...
कानपूर में अब ऑक्सीजन के चलते नहीं टूटेंगी सांसे, हॉस्पिटल्स में शुरू हो गया यह बड़ा काम
COVID-19

कानपूर में अब ऑक्सीजन के चलते नहीं टूटेंगी सांसे, हॉस्पिटल्स में शुरू हो गया यह बड़ा काम

कोरोनावायरस महामारी के चलते पूरे देश में ऑक्सीजन की महामारी इस कदर बढ़ गया था कि  कई लोग कि सासे ऑक्सीजन के चलते ही टूट गई । यही नहीं हॉस्पिटल से बेड नहीं मिलने के चलते भी कई लोगों ने अपनी जान गवाई है। अभी मामले काम होने लगे है लेकिन कोरोनावायरस के दूसरे लहर में  हर जगह कहर बरस रहा था। ऐसा लग रहा था कि यह वायरस तबाही मचाने वाली है। कोरोनावायरस का पहला लहर जब आया था तो दूसरे लहर का भी अनुमान लगाया गया और दूसरी लहराई भी आई ठीक इसी तरह तीसरे लहर का भी अनुमान सितंबर से अक्टूबर-नवंबर के बीच में आने का अनुमान लगाया जा रहा है ऐसे में शाशन द्वारा पहले ही पूरी तरह से व्यवस्था के साथ उससे लड़ने के लिए तैयारी कर रही है। कानपुर में कोरोनावायरस कि तीसरे लहर से से बचने के लिए ऑक्सीजन दूसरे स्टेट से मांगने की नौबत ना पड़े इसके लिए कानपुर मंडल को ऑक्सीजन उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है।...