Friday, September 23UAM - UDYAM-BR-13-0006027

रेलवे में अब तक की सबसे बेहतरीन व्यवस्था शुरू, टीटी को मिला नया आधुनिक मशीन, जानिए

नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे में टिकट चेकिंग स्टाफ अब चार्ट के बजाय हैंड-हेल्ड टर्मिनल ले जाएगा। इसका प्रशिक्षण रेलवे बोर्ड के निर्देश पर शुरू किया गया है। नई व्यवस्था के तहत बर्थ खाली होते ही आरएसी और वेटिंग टिकट कन्फर्म हो जाएंगे।

 

ट्रेन से यात्रा करते समय टीटीई अब मनमाने ढंग से बर्थ आवंटित नहीं कर पाएगा। टिकट चेकिंग स्टाफ को मैनुअल चार्ट के बजाय एक आधुनिक हैंडहेल्ड टर्मिनल (HHT) द्वारा नियंत्रित किया जाएगा। रेलवे बोर्ड के निर्देश पर नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे में ट्रेनिंग शुरू हो गई है। पहले चरण में पूर्वोत्तर रेलवे के 16 कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया गया है। बाकी स्टाफ को ट्रेनिंग देने के बाद उन्हें एचएचटी को सौंपा जाता है।

 

उत्तर पूर्व रेलवे की कुल क्षमता 316 एच.टी. है: मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह के मुताबिक उत्तर पूर्व रेलवे को कुल 316 एचएचटी मिले हैं। लखनऊ मंडल में 191 एचएचटी, वाराणसी मंडल में 96 एचएचटी और इज्जतनगर मंडल में 29 एचएचटी हैं।

 

बर्थ खाली होते ही होंगे आरएसी और वेटिंग टिकट कन्फर्म: ट्रेनों में यात्रियों के नहीं आने से एचएचटी को खाली बर्थ फीड की जाएगी। खाली बर्थ भरते ही आरएसी बर्थ कंफर्म हो जाएगी। यात्रियों के मोबाइल तक टिकट कन्फर्मेशन की जानकारी पहुंच जाएगी। एक बार आरएसी क्लियर हो जाने के बाद बर्थ खाली होने पर वेटिंग लिस्ट के यात्री टिकट की भी पुष्टि हो जाएगी। इसकी जानकारी यात्रियों के मोबाइल फोन तक भी पहुंच जाएगी। एचएचटी का उपयोग अनधिकृत जन्म आवंटन को रोकेगा। प्रतीक्षा सूची में आने वाले यात्रियों को राहत मिलेगी और साथ ही पारदर्शिता के साथ रीयल टाइम बर्थ की उपलब्धता की जानकारी भी दी जाएगी।

 

रेलटेल के नेटवर्क पर चलेगा सिस्टम: हैंडहेल्ड टर्मिनल (एचएचटी) सिस्टम रेलटेल के नेटवर्क 4जी पर चलेगा। वह प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) की तरह रास्ते में कोई जवाब नहीं देगा। दरअसल, व्यवस्था को पारदर्शी बनाने के लिए रेलवे प्रशासन ने हर टीटीई को पीओएस दिया है, लेकिन आज तक एक भी ऑनलाइन पेनल्टी नहीं काटी गई है। रेलवे और भारतीय स्टेट बैंक का पीओएस सिस्टम लॉन्च होने से पहले ही चरमरा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.