Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

यूपी दिल्ली रैपीड रेलयात्रीयो के लिए ख़ुशख़बरी, लोकों ट्रेनो का टेस्टिंग शुरू जानिए रूट प्लान

मेरठ में लोको ट्रेनें 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से रैपिड ट्रेन को दिल्ली पहुंचने में कुछ समय लग सकता है, लेकिन इससे पहले लोको ट्रेन इसके लिए बनाई जा रही सुरंगों के अंदर दौड़ चुकी है। ये ट्रेनें पटरियों पर भी चलती हैं। ड्राइवर बैठ जाता है, एक संकेत है। क्रॉस को ट्रैक के दूसरी तरफ भेजा जाता है। प्रत्येक सुरंग के अंदर दो लोकोमोटिव चल रहे हैं।

 

# तीन सुरंगों में छह ट्रेनें

इस समय मेरठ शहर में तीन सुरंगों में छह ट्रेनें चल रही हैं, जबकि दिल्ली के आनंद विहार में तीन सुरंगों में छह ट्रेनें चल रही हैं। अब इनकी संख्या मेरठ में बढ़ाई जाएगी। जैसे-जैसे सुरंग आगे बढ़ती है, ट्रैक को उस लंबाई तक बढ़ा दिया जाता है। उल्लेखनीय है कि दो सुरंगों का निर्माण तीन टुकड़ों में किया जा रहा है जबकि आनंद विहार में दो टुकड़ों में।

 

# ये है लोको ट्रेन का इस्तेमाल

संबंधित सामान को लोको ट्रेन में टनल के अंदर लादकर मशीन तक पहुंचाया जाता है। इसमें टनल रिंग के पुर्जे, नट और बोल्ट, बेयरिंग सहित सभी उपकरण शामिल हैं। इस ट्रेन में छह डिब्बे होते हैं जिनमें मिट्टी निकाली जाती है। इसके लिए दो ट्रेनें हैं। बोगियों को असेंबल करने और सामान लोड करने के बाद, कोई मशीन पर जाता है, फिर माल उतार दिया जाता है और मशीन खुदाई शुरू कर देती है। मशीन मिट्टी को खोदकर उसकी बोगियों में भर देती है। जब बोगियां भर जाती हैं तो ट्रेन शुरू हो जाती है। जब ट्रेन आधी हो जाती है, तो दूसरी ट्रेन माल को लोड करती है और खाली बोगियों को मशीन तक ले जाती है।

 

# पता करें कि सुरंग से धूल कैसे निकलती है

बोगियों में खोदी गई मिट्टी को मशीन से भरकर लोकोमोटिव ट्रेन के शाफ्ट से बाहर आता है। यह शाफ्ट जमीनी स्तर से 17 मीटर नीचे है। इस शाफ्ट के शीर्ष पर विशेष रेलिंग बनाई जाती है और क्रेन लगाई जाती है। इस क्रेन में पहिए होते हैं जिन्हें कई दिशाओं में ले जाया जा सकता है। जब लोको ट्रेन के शाफ्ट पर पहुंचता है, तो उसके ऊपर क्रेनें लगाई जाती हैं। इसके बाद क्रेन एक बोगी को 25 मीटर की ऊंचाई तक उठाती है। क्रेन पहियों के साथ उस दिशा में चलती है जहां डंपर खड़े होते हैं। क्रेन ने डंपर पर मिट्टी से भरी बोगी को पलट दिया, जिससे डंपर में कीचड़ भर गया। इसी तरह क्रेन बारी-बारी से बोगियों को उठाती है।

 

# रैपिड ट्रेन चलने पर लोको ट्रेन का क्या होगा?

लोको ट्रेन का उपयोग केवल सुरंग निर्माण सामग्री के परिवहन और मिट्टी वापस करने के लिए किया जा रहा है। टनल पूरी तरह बनकर तैयार हो जाने पर संचालन कंपनी ट्रेन को वापस ले जाएगी। इसलिए जो ट्रैक बिछाया गया है उसे भी हटा दिया जाएगा। रैपिड रेल के लिए नया ट्रैक बिछाया जाएगा।

 

# सुरंग की मिट्टी कहाँ जाती है

सुरंग की मिट्टी को विभिन्न सरकारी परियोजनाओं में उपयोग के लिए भेजा जाता है। यह संभागीय आयुक्त और जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय के स्तर पर निर्धारित किया जाता है। लोहियानगर में, उदाहरण के लिए, लोगों ने कैंची से भूखंडों में छेद खोदे और छेद खोदे। रैपिड रेल कॉरिडोर में जो गड्ढा खोदा गया था, उसे खोदकर भर दिया गया है। इसी तरह और भी कई जगहों पर मिट्टी भेजी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.