Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

बिहार में अनुकंपा पे नौकरी के लिए दो नयी शर्त लागू , पत्नी को देना होगा शपथ पत्र जानिए

पटना, राज्य ब्यूरो सेवा के दौरान मरने वाले सरकारी कर्मचारियों की दूसरी पत्नी के बच्चे भी अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति के हकदार हैं लेकिन इसके लिए दो शर्तें तय की गई हैं. पहली शर्त यह है कि दूसरी शादी सरकार की अनुमति से हो। दूसरा, पहली पत्नी ऐसे बच्चों को रोजगार की सिफारिश करे। पहली पत्नी शपथ पत्र के माध्यम से बताएगी कि उसे दूसरी पत्नी के बच्चों को रोजगार मिलने से कोई आपत्ति नहीं है। सक्षम प्राधिकारी हलफनामे का सत्यापन करेगा। यानी पहली पत्नी की सहमति के बिना दूसरी पत्नी के बच्चों का मुआवजा नहीं मिलेगा।

 

# सामान्य प्रशासन विभाग ने जारी किए आदेश

सामान्य प्रशासन विभाग ने बुधवार को इस संबंध में आदेश जारी किया है। इसकी एक प्रति सभी विभागों, विभागाध्यक्षों, पुलिस महानिदेशकों, संभागीय आयुक्तों और जिला अधिकारियों को दे दी गई है। आदेशों में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि सरकारी आदेश के बिना शादी करने वाले नौकर की दूसरी पत्नी के बच्चे अनुकंपा नियुक्ति के हकदार नहीं होंगे। भले ही पर्सनल लॉ के हवाले से शादी नहीं हुई। हालांकि, यह भी स्पष्ट किया गया है कि पहली या दूसरी पत्नी के उन बच्चों को ही मौका दिया जाएगा, जिनके पास पद के लिए न्यूनतम योग्यता है। पहली और दूसरी पत्नियों के बच्चों में पहली पत्नी के बच्चों को वरीयता दी जाएगी।

 

# राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए जरूरी है विजिलेंस क्लीयरेंस सर्टिफिकेट

शिक्षा विभाग की राज्य स्तरीय चयन समिति को राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए अनुशंसा भेजने के लिए 21 जुलाई तक प्रत्येक जिले से तीन चयनित शिक्षकों के नाम प्राप्त करने हैं। अनुशंसित शिक्षकों के नाम के साथ ही विजिलेंस क्लीयरेंस सर्टिफिकेट भी अनिवार्य कर दिया गया है। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार सिंह ने केंद्र सरकार की गाइडलाइंस का हवाला देते हुए सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को इसका पालन करने के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सभी जिलों से शिक्षकों के नामों की अनुशंसा मिलने के बाद राज्य स्तरीय चयन समिति की बैठक में चयनित शिक्षकों की अंतिम सूची राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए केंद्र सरकार को भेजी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.