Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

प्रयागराज में जरुरत मन्दो की मदद के लिए हुवा ऑक्सीजन बैंक का स्थापना, जानिए किसको मिलेगा ज्यादा लाभ

इलाहाबाद यानी प्रयागराज में ऑक्सीजन के चलते किसी की सांसे ना रुके और  जरूरतमंदों का मदद किया जा सके इसके लिए ऑक्सीजन बैंक स्थापित किया गया है। हम आपको बता दें कि यह  ऑक्सीजन बैंक लाल बहादुर शास्त्री मार्ग स्थित ब्लड बैंक में  स्थापित किया गया है। यह ऑक्सीजन बैंक इलाहाबाद नर्सिंग होम एसोसिएशन और रोटरी इलाहाबाद नॉर्थ के बदौलत किया गया है। 

इस ऑक्सीजन  बैंक का स्थापना  20 जून 2021 दिन शनिवार को किया गया , स्थापना के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि आईजी के पी सिंह मौजूद रहे।  केपी सिंह ने कहा कि  शहर को ऑक्सीजन की जरूरत है ऐसे में लोगों को आगे आकर योगदान भी देना चाहिए और जरूरत पड़ने पर ले भी जाएं। 

हम आपको बता दें कि अब ऑक्सीजन बैंक उद्घाटन से ठीक पहले उन्होंने पीपल का पौधा लगाकर उसके बाद उद्घाटन किया। इसी मौके पर  डॉ अवनीश सक्सेना मौजूद थे जोकि नर्सिंग होम एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं।  डॉक्टर सक्सेना ने बताया कि  ऑक्सीजन बैंक में कोई भी अपना सिलेंडर  रख सकता है और जरूरत पड़ने पर उनको एक के बदले दो सिलेंडर दिया जाएगा। प्रदेश अध्यक्ष नर्सिंग होम एसोसिएशन डॉक्टर सुशील सिन्हा ने भी कहा है कि शहर वासियों को इससे बहुत लाभ मिलेगा और अभी फिलहाल पोस्ट को भी मरीजों के लिए ऑक्सीजन दिया जाएगा वो भी डॉक्टरों की सलाह पर दिया जाएगा। 

हम आपको आगे बता दे  की  सुरेश कुमार गुप्ता  जो रोटरी इलाहाबाद नार्थ के अध्यक्ष हैं। गुप्ता जी ने कहा कि रोटरी एवं आर्येदु  फाउंडेशन ऑक्सीजन बैंक के लिए  फाउंडेशन की ओर से 300 ऑक्सीजन सिलेंडर का व्यवस्था करके लोगों तक पहुंचाया जाएगा।  ऑक्सीजन  बैंक के स्थापित होने से  कोरोनावायरस से  पीड़ित मरीजों को लाभ मिलेगा।  वही इसके साथ ही जरूरतमंदों को भी ऑक्सीजन की जरूरत पड़ने पर लाभ मिल सकता है। 

प्रदेश में कोरोनावायरस का मामला धीरे धीरे कम हो रहा है।  लेकिन अभी कोरोनावायरस गया नहीं है।  अनुमान लगाया जा रहा है कि कोरोनावायरस का जैसे दूसरा लहराया आया था ठीक वैसे ही तीसरा लहर भी सितंबर,अक्टूबर या नवंबर तक आ सकता है।  हालांकि इसका कोई सटीक अनुमान नहीं लगा सकता है।  लेकिन पहले  ही शासन द्वारा तीसरे लहर को लेकर तैयारियां जोरों से कर रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.