Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

गोरखपुर को मिली 10 नई बसे, इन रूटों पर दौड़ने को तैयार, जानिए पूरा रूट प्लान

गोरखपुर के लोगों के लिए एक खुशखबरी है। इस महीने से गोरखपुर के नए रूटों पर इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन शुरू हो जाएगा, जिसके लिए 10 बसों का पंजीकरण भी हो चुका है। इतना ही नहीं, बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशानुसार नगर को 25 और इलेक्ट्रिक बसें दी जाएंगी। यह सभी बसें पंजीकरण के बाद इसी महीने से गोरखपुर की सड़कों पर दौड़ना शुरू कर देंगी। जल्द ही 54 सीटर इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन भी शुरू हो सकता है।

 

# कहां तक पहुंची इलेक्ट्रिक बसें_

इलेक्ट्रिक बसें गुड़गांव से अब इलेक्ट्रिक बस डिपो पहुंच चुकी है ।डिपो के प्रबंधक केके मिश्र ने बताया कि इस बार बसों को कंटेनर में लोड कर लाने के बजाय, बस चालकों द्वारा गुड़गांव प्लांट से  महेसरा स्थित इलेक्ट्रिक बस डिपो तक चला कर लाया गया है। बताया जा रहा है कि बसों के साथ एक कंटेनर में जनरेटर भी था, जिसकी मदद से रास्ते में बसों को चार्ज करते हुए लाया गया है। इसके अलावा जिन स्थानों पर चार्जिंग स्टेशन मिला, वहां पर भी बसों को चार्ज किया गया है।

 

 

# नागरिकों की मांग पर बसों के फेरे बढ़ेंगे, रूटों के विस्तार की भी है संभावना_

नागरिकों की मांग पर 10 इलेक्ट्रिक बसों के आने के बाद नगर निगम ने बसों के रूटों के विस्तार और फेरे बढ़ाने पर मंथन शुरू कर दिया है। अभी वर्तमान में सहजनवा, भटहट, पिपराइच, जंगल सिकरी तक बसे जा रही हैं। आपको बता दें कि नागरिक काफी समय से बसों का फेरा बढ़ाने और पिपराइच, कौड़ीराम, चौरी चौरा व अन्य स्थानों तक बस सेवा शुरू करने की मांग कर रहे हैं।

 

 

10 इलेक्ट्रिक बसें आ गई हैं। इनके पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू करा दी गई है। जल्द ही रूट का निर्धारण कर बसों को सड़क पर उतार दिया जाएगा। नागरिकों की ओर से लगातार बस सेवा का रूट बढ़ाने की मांग की जा रही है। मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप बसों का इस तरह संचालन किया जाएगा ताकि ज्यादा से ज्यादा नागरिक लाभान्वित हो सकें। – अविनाश सिंह, नगर आयुक्त।

 

# वर्तमान में कहां तक चल रही है बसें__

वर्तमान की बात करें तो गोरखपुर में अभी कई जगह ऐसी हैं जहां इलेक्ट्रिक बसें चल रही हैं जिनमें मनीराम से नौसढ़ होते हुए सहजनवा, मेडिकल कॉलेज से विष्णु मंदिर चौराहा, कूड़ाघाट होते हुए एयरपोर्ट समेत कई अन्य रूटों के नाम इनमें शामिल है। इनका काफी अच्छा रिस्पांस देखकर ही नगर निगम ने बसों की संख्या बढ़ाने का निर्णय लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.