Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

गोरखपुरवासियो के लिए ख़ुशख़बरी, 160KM प्रति घंटे रफ़्तार से ट्रेने 80KM नई रेललाइन पर दौड़ेगी

सहजनवां-दोहरीघाट नई रेल लाइन पर सहजनवां-दोहरीघाट नई रेल लाइन पर 160 की रफ्तार से ट्रेनें चलेंगी। 1319 करोड़ की लागत से बनी यह महत्वाकांक्षी योजना करीब चार साल में पूरी होगी। समय बीतने के साथ लागत भी बढ़ेगी। सहजनवां-दोहरीघाटल नई रेल लाइन: 81 किमी लंबी नई बड़ी रेल लाइन पर 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेनें भी चलेंगी । रेलवे लाइन पर मजबूत ट्रैक और दूरी के सिग्नल के साथ बिजली के तार भी बिछाए जाएंगे।

 

# मजबूत पटरियों, डिस्टेंस सिग्नल के साथ लाइन पर बिछाई जाएंगी बिजली की लाइनें

निर्माण कार्य शुरू करने से पहले निर्माण संस्था ने विस्तृत सर्वे के लिए चिन्हित भूमि के लिडार सर्वे (लाइट डिटेक्शन एंड रेंजिंग) की प्रक्रिया शुरू कर दी है. निर्माण संगठन ने लिडार सर्वेक्षण के लिए एक कंपनी को भी नामित किया है। कंपनी मौके पर पहुंच गई है, जो चार महीने में सर्वे का काम पूरा कर लेगी। इस सर्वे पर एक करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर रेलवे लाइन बिछाई जाएगी। स्टेशन और पुल बनाए जाएंगे। भूमि मूल्यांकन के लिए होगा लिडार सर्वे, रिपोर्ट के आधार पर कंपनी मनोनीत, रेलवे स्टेशन व पुलों का होगा निर्माण।

 

# चार साल में पूरी होगी यह योजना

1319 करोड़ की लागत से बनी यह महत्वाकांक्षी योजना करीब चार साल में पूरी होगी। समय बीतने के साथ लागत भी बढ़ेगी। रेल मंत्रालय की ओर से प्राथमिक कार्यों के लिए 20 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं। 17 दिसंबर 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में सहजनवां-दोहरीघाट नई रेलवे लाइन को मंजूरी दी गई।कैबिनेट ने 1320 करोड़ के बजट को भी मंजूरी दी थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर निर्माण की प्रक्रिया तेज हो गई है।यहां जानिए बाराबंकी-गोरखपुर-छपरा 425 किमी मुख्य रेल मार्ग को 130 से बढ़ाकर 160 किमी प्रति घंटे करने की योजना है। इस रेलवे लाइन पर 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेनें दौड़ रही हैं।

 

# 111 गांवों से गुजरेगी रेल लाइन, भूमि अधिग्रहण शुरू

सहजवां-दोहरीघाट नई रेल लाइन गोरखपुर व मऊ जिले के 111 गांवों से होकर गुजरेगी। गोरखपुर के 104 गांवों में भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इन गांवों में रेलवे लाइन बिछाने के लिए 359 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। उत्तर पूर्व रेलवे ने चिन्हित जमीन का रिकॉर्ड जिला प्रशासन को सौंप दिया है। जमीन की जांच शुरू हो गई है। रेलवे प्रशासन ने सामाजिक प्रभाव का अध्ययन करने के लिए एक टीम गठित करने की अधिसूचना जारी की है।

 

# 81 किमी लंबी रेल लाइन पर बनेंगे 12 स्टेशन

सहजनवां, पिपरौली, खजनी, उनवाल, बैदौली बाबू, बसगांव, उरुवा बाजार, बनवार पर, गोला बाजार, भरौली, बरहालगंज और दोहरीघाट।

 

# सरयू नदी पर बनेगा 1100 मीटर लंबा पुल

सरयू नदी पर बरहालगंज और दोहरीघाट के बीच 1100 मीटर लंबा पुल बनेगा। पुल के निर्माण की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। इसके अलावा रेलवे लाइन पर दो ओवरहेड ब्रिज, 15 अंडरपास, 11 महत्वपूर्ण ब्रिज और 47 छोटे ब्रिज भी बनाए जाएंगे।

 

# ऐसे होता है लिडार सर्वे

जीपीएस आधारित ड्रोन के जरिए लिडार सर्वे किया जाता है। ड्रोन सेंसर के जरिए जमीन को 75 मीटर की ऊंचाई से देखता है। निरीक्षण में चिन्हित जमीन की वीडियोग्राफी कराई जाती है, जिससे जमीन के नीचे की लोकेशन का पता चल जाता है।

 

# वाराणसी और प्रयागराज की राह होगी आसान

गोरखपुर से वाराणसी और प्रयागराज का रास्ता होगा आसान। दोहरीघाट से इंद्रा के बीच आमान परिवर्तन का कार्य चल रहा है। सहजनवां-दोहरीघाट रेल लाइन बिछाने के साथ ही गोरखपुर से मऊ, वाराणसी होते हुए प्रयागराज के लिए ट्रेनें चलने लगेंगी। गोरखपुर के दक्षिणाचल के विकास का रास्ता खुलेगा और समय की भी बचत होगी। रेल सेवा से करीब 10 लाख लोग जुड़ेंगे।

सहजवां-दोहरीघाट नई रेल लाइन परियोजना के तहत लिडार प्रौद्योगिकी के माध्यम से विस्तृत इंजीनियरिंग सर्वेक्षण के लिए एजेंसी को अंतिम रूप दिया गया है। यह एजेंसी स्टेशन यार्ड मानचित्र के साथ वास्तविक सामग्री की गणना करेगी, l खंड, पुलों के नक्शे आदि बनाने का कार्य किया जाएगा। – पंकज कुमार सिंह, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी- उत्तर पूर्व रेलवे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.