Friday, September 30UAM - UDYAM-BR-13-0006027

खुशखबरी-BSNL गोरखपुर के इन पांच गावों से शुरू करेगा 4G सेवा, केंद्र सरकार से मिली अनुमति

भारत संचार निगम लिमिटेड, बीएसएनल 4G सेवा की तैयारी में जुट गया है। बता दें कि बीएसएनल अपनी 4G सेवा का ट्रायल गोरखपुर के वनटांगिया क्षेत्र के 5 गांव से शुरू करेगा। इसको लेकर केंद्र सरकार से भी स्वीकृति भी मिल चुकी है खबर के अनुसार अगले महीने के अंतिम सप्ताह तक इस पर काम शुरू हो सकता है। वही इन 5 गांव में ट्रायल होने के बाद इस साल दीपावली तक 4G सेवा का विस्तार किया जा सकता है।

वर्ष 2020 में थी 4G ट्रायल की योजना  

आपको बता दें कि बीएसएनल बहुत पहले 4G सेवा शुरू करने वाला था जिसके लिए गोरखपुर महाराजगंज जिले के बेस ट्रांसमिशन स्टेशनों यानी बीटीएम को तैयार भी कर लिया था यही नहीं बीएसएनल 4G सिम साल 2020 में बाजार में भी ला दिया था, लेकिन चीन से उपकरणों की खरीद पर रोग लगने के बाद यह प्रोजेक्ट अधूरी रह गई थी, वही उसके बाद कोरोना वायरस संक्रमण के चलते भी योजनाएं लटक गई। इतना कुछ होने के बाद केंद्र सरकार से इसकी स्वीकृति अब मिल चुकी है जिसके बाद अब उम्मीद जगती हुई दिखाई दे रही है उम्मीद है कि जिले में बीएसएनल ग्राहक भी 4G का इस्तेमाल कर पाएंगे।

इन 5 गांव में होगा 4G का ट्रायल-

राजही उर्फ रामगढ़, चिलबिलवा, आम बाग़, जंगल रामगढ़ उर्फ़ खजनी, जंगल तिनकोनिया नंबर 3

बीएसएनएल के सवा चार लाख है  ग्राहक

मिली जानकारी के अनुसार बता दें कि पहले गोरखपुर महाराजगंज जिला में बीएसएनल के 3 लाख ग्राहक थे वही बीते 1 साल में 1.25 लाख 4G ग्राहक सिम वाले भी जुड़े हैं वही कुल संख्या 4.25 लाख पहुंच गई है 3 हजार  पोस्टपेड उपभोक्ता भी है। बता दें कि गोरखपुर और महाराज गंज जिले में फिलहाल 2जी और 3जी के 478 बेस ट्रांसमिशन स्टेशन है बीएसएनल 4G शुरू करने के बाद इन्हीं बेस ट्रांसमिशन स्टेशन की छमता बढ़ाएगा।

केंद्र सरकार देगी उपकरण 

भारत संचार निगम लिमिटेड के प्रधान महाप्रबंधक के अनुसार 4G सेवा शुरू करने के लिए जिन उपकरणों की जरूरत होगी उसे केंद्र सरकार उपलब्ध कराएगी। उन्होंने बताया कि अगले महीने के अंतिम तक उपकरण मिल जाएंगे उसके बाद केंद्र की टीम नेटवर्क को अपग्रेड करेगी और स्थानीय टीम को प्रशिक्षण भी देगी। जिसके बाद जिले के अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में 4G सेवा का विस्तार होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.