Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

अब गोरखपुर को माडल टाउन बनाने तैयारी शुरू, खर्च होंगे 328 करोड़ रूपये, ख़त्म हो जाएगी हर घर की समस्या

गोरखपुर को अब माडल टाउन बनाने की तैयारी चल रही है। बता दे कि गोरखपुर नगर निगम में आने वाले क्षेत्रों के जर्जर तारों को ठीक किया जाएगा। माडल टाउन बनाने के लिए 328 करोड़ रुपए खर्च किए जायेंगे। क्षेत्र के जर्जर तारों और पोलो को बदलने का कार्य किया जायेगा ।

 

ट्रिपिंग और लो वोल्टेज की समस्या हो जाएगी खत्म

बता दे की महानगर में बिजली सुधार को लेकर बहुत से कार्य किए जा चुके है।आपकी जानकारी के लिए बता दे कि गोलघर क्षेत्र में बिजली की सप्लाई अंडर ग्राउंड केबिल से की जा रही है, इसके अलावा पुराना गोरखपुर, अलीनगर, बक्शी पुर इत्यादि क्षेत्रों में भी बिजली की सप्लाई अंडर ग्राउंड तारों से ही की जा रही है।

एरियल बंच कंडक्टर कई क्षेत्रों में लगा दिया गया है इसके वावजूद भी जैसे जैसे महानगरों का सीमा बिस्तर होते जा रहा है इसके साथ ही बिजली व्यवस्था पर लोड भी बढ़ता जाता है।इन सभी समस्याओं को देखते हुए शासन ने सिस्टम को सुधारने के लिए जोर दिया है। सिस्टम के सुधार होने से बार बार ट्रिपिंग होने के साथ साथ क्षेत्र में लो वोल्टेज की समस्या भी ठीक हो जाएगी।

 

अंडर ग्राउंड किए जायेंगे बिजली के वायर 

बता दे की क्षेत्र में जरूरत के अनुसार 33 हजार और 11 हजार लाइन को अंडर ग्राउंड किया जायेगा इसके साथ ही लाइन व एलटी के जर्जर तारों को बदला भी जायेगा। जिन ट्रासफार्मर पे लोड ज्यादा है उसकी क्षमता बढ़ाई जाएगी एवम नए ट्रांसफार्मर भी लगाए जायेंगे।इसके अलावा जिन फीडरो पर लोड ज्यादा होगा उसे किसी दूसरे फीडर पे ट्रांसफर किया जायेगा।

 

बांस बल्ली हटाने के लिए खर्च हुए थे 10 करोड़ 94 लाख

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर बांस बल्ली हटा कर पोल और तार लगाने के लिए 10.94 करोड़ रुपए खर्च हुए थे इसके वावजूद भी कई क्षेत्रों में बांस बल्ली के सहारे बिजली की सप्लाई हो रही है। बता दे कि नई योजना में बांस बल्ली की जगह पोल और तार लगाने पर खर्च किए जाने की उम्मीद है।

 

तीन सर्किलो में फैला है गोरखपुर महानगर बिजली निगम 

बता दे कि गोरखपुर महानगर की बिजली निगम तीन सर्किल ने फैला हुवा है। जानकारी के लिए बता दे कि महानगर सर्किल के साथ साथ गोरखपुर नगर निगम ग्रामीण सर्किल प्रथम एवम द्वितीय में भी फैला हुवा है। तीनो सर्किलो से प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है इसलिए महानगर से सटे आस पास के गावो व नागरिकों को भी इस योजना का लाभ मिलेगा।

 

यह सभी सामिल नगर निगम

  • पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड – गोरखपुर वाराणसी प्रयागराज
  • मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड – लखनऊ अयोध्या बरेली शाहजहांपुर
  • दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड – झांसी मथुरा अलीगढ़ फिरोजाबाद
  • पक्षिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड – मेरठ गाजियाबाद सहारनपुर मुरादाबाद नोएडा
  • केस्को – कानपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published.