Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

खुशखबरी-एक्सप्रेसवे कनेक्टिविटी में उत्तर प्रदेश बना देश का नंबर वन राज्य, कई देशों को छोड़ा पीछे

आने वाले समय में उत्तर प्रदेश उत्तर में दुनिया के कई देशों से ज्यादा एक्सप्रेसवे कनेक्टिविटी होगी। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि योगी आदित्यनाथ सरकार के द्वारा देश के सबसे बड़े एक्सप्रेसवे नेटवर्क कनेक्टिविटी की आधारशिला रखी गई है। आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश दुनिया के कई देशों से अधिक एक्सप्रेसवे कनेक्टिविटी में सबसे आगे निकल जायेगा । उत्तर प्रदेश देश का पहला 13 एक्सप्रेसवे वाला राज्य बन जायेगा, प्रदेश में 3200 किलोमीटर के 13 एक्सप्रेसवे में से छह पर गाड़ियां दौड़ रही है जबकि सात एक्सप्रेस वे पर अभी निर्माण काम काम चल रहा है। इसी महीने 16 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 296 किलोमीटर लंबे बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का भी उद्घाटन करेंगे।

पांच वर्षों में इन्फ्रास्ट्रक्चर में हुवा परिवर्तन

पिछले 5 वर्षों में इन्फ्रास्ट्रक्चर में परिवर्तन योगी आदित्यनाथ योगी कि सरकार ने किया है। कहा जाता है कि इंफ्रास्ट्रक्चर अर्थव्यवस्था का ग्रोथ इंजन होता है और सड़कें तरक्की का आईना होती हैं। बता दें कि गांव की गलियों से लेकर, जिला मुख्यालय, ब्लॉक मुख्यालय, दूसरे राज्यों को जोड़ने वाले सड़कों का संजाल बनाया है। केवल डेढ़ एक्सप्रेसवे 70 सालों में बने थे पश्चिमी व एनसीआर के लोगों की कई वर्षों पुरानी मांग को डबल इंजन की सरकार ने पूरा किया है। इसका जीता जागता उदाहरण दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस में से एक है। इसके अलावा गंगा एक्सप्रेसवे जिसकी लंबाई 594 किलोमीटर है। गंगा एक्सप्रेसवे सिर्फ पूरब और पश्चिम की दूरी को कम नहीं करता है बल्कि दिलों को भी जोड़ने का काम करता है।

आपको बता दें कि बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे, गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे, लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेसवे, दिल्ली देहरादून एक्सप्रेस वे और गाजीपुर बलिया माझी घाट एक्सप्रेसवे का निर्माण का काम अभी हो रहा है। इन सभी एक्सप्रेस-वे के निर्माण होने के बाद पूरे उत्तर प्रदेश वासियों को इसका फायदा होगा। बुंदेलखंड भी सीधे दिल्ली से जुड़ जाएगा। वही ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे 24 किलोमीटर, डीएनडी फ्लाईवे 9 किलोमीटर, यमुना एक्सप्रेस वे 165 किलोमीटर, आगरा लखनऊ एक्सप्रेसवे 135 किलोमीटर, और बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे 296 किलोमीटर कुल मिलाकर 630 किलोमीटर का सफर दिल्ली से चित्रकूट तक बिना किसी बाधा के किया जा सकेगा।

उत्तर प्रदेश में संचालित एक्सप्रेस वे

  • नोएडा- ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे-25 किलोमीटर
  • यमुना एक्सप्रेस वे 165 किलोमीटर
  • आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे 302 किलोमीटर
  • दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे 96 किलोमीटर
  • पूर्वांचल एक्सप्रेसवे 341 किलोमीटर
  • बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे 296 किलोमीटर
  • कुल संचालित एक्सप्रेसवे 1225 किलोमीटर

निर्माणाधीन एक्सप्रेसवे 

  • गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे-91 किलोमीटर
  • गंगा एक्सप्रेस वे-594 किलोमीटर
  • गाजियाबाद-कानपुर एक्सप्रेसवे-380 किलोमीटर
  • लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेसवे-63 किलोमीटर
  • गोरखपुर-सिलीगुड़ी-एक्सप्रेसवे-519 किलोमीटर
  • गाजीपुर-बलिया-माझी घाट एक्सप्रेसवे-117 किलोमीटर
  • दिल्ली-सहारनपुर-देहरादून एक्सप्रेसवे-210 किलोमीटर
  • टोटल निर्माणाधीन एक्सप्रेसवे-1974 किलोमीटर

Leave a Reply

Your email address will not be published.