Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

ख़ुशख़बरी : गोरखपुर से होगा सीप्लेन का संचालन, जानिए क्या होगा रूट और समयसीमा

पहला सीप्लेन: यूपी की योगी सरकार राज्य के पहले सीप्लेन का संचालन गोरखपुर से करेगी. यह समुद्री विमान गोरखपुर के रामगढ़ ताल से वाराणसी होते हुए प्रयागराज के लिए उड़ान भरेगा। उत्तर प्रदेश का गोरखपुर शहर पहले से ही पर्यटकों और प्रेमियों के लिए एक बड़ा केंद्र बिंदु रहा है. योगी सरकार में इस क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए और भी कई आयाम गढ़े जा रहे हैं.पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सरकार अगले महीने रामगढ़ताल में सी-प्लेन चलाने के प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट को मंजूरी दे सकती है.

 

#    गोरखपुर से प्रयागराज के लिए उड़ान भरेगा सीप्लेन

सीप्लेन बाबा विश्वनाथ के रास्ते रामगढ़ ताल से गुरु गोरक्षनाथ से प्रयागराज संगम तक संचालित होगा। इस संबंध में प्रक्रिया तेज कर दी गई है। परियोजना को जीडीए और राजस्व के सहयोग से नागरिक उड्डयन प्रशासन द्वारा स्थापित और संचालित किया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का इरादा रामगर्तल को पर्यटन का हब बनाने का है. इसी को ध्यान में रखते हुए जीडीए ने सीप्लेन जैसी परियोजनाओं को जमीन पर उतारने की योजना बनाई है।

 

#    50 मिनट में पहुंचेंगे प्रयागराज

केंद्र सरकार ने UDAN योजना के तहत देश में 100 समुद्री विमानों के संचालन की घोषणा की है। स्पाइसजेट ने पहले चरण में 18 स्थानों पर समुद्री विमानों के संचालन की अनुमति भी ली थी। स्पाइसजेट को गोरखपुर, वाराणसी और प्रयागराज के बीच समुद्री विमानों के संचालन की जिम्मेदारी भी सौंपी गई है। गोरखपुर से वाराणसी की दूरी करीब 200 किमी है, जबकि हवाई मार्ग से यह दूरी काफी कम है। इसे पूरा होने में लगभग 50 मिनट का समय लगेगा।

 

#    अहमदाबाद में संचालित होता है देश का पहला सीप्लेन

इस बीच, वाराणसी से प्रयागराज की दूरी 125 किमी है, जिसे हवाई मार्ग से पूरा करने में 30 मिनट का समय लगेगा। देश का पहला सीप्लेन गुजरात के अहमदाबाद में साबरमती रिवर फ्रंट से किवाड़िया संचालित होता है। यह स्पाइसजेट द्वारा संचालित है। एक समुद्री विमान में एक साथ 12 लोग यात्रा कर सकते हैं। जीडीए के वीसी प्रेम रंजन सिंह ने बताया कि समुद्री विमान के लिए एयरफील्ड को पानी में स्थित कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि सी-प्लेन के लिए जितने भी मानक तय किए गए हैं, उन सभी मानकों को रामगढ़ताल में पूरा किया जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.