Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

कानपूर मेट्रो का आटोमेटिक वाशिंग प्लांट बनाने का काम हुवा शुरू, ऐसे करेगा काम, मिलेगी ये सुविधा

कानपुर में मेट्रो का काम जोरों से चल रहा है हर काम नए जनरेशन के हिसाब से किया जा रहा है। आपको बता दें कि मेट्रो ट्रेनों की धुलाई के लिए ऑटोमेटिक वाशिंग प्लांट बनाने का काम शुरू हो गया है। यह ऑटोमेटिक वाशिंग प्लांट ट्रेनों के आने से पहले बनकर तैयार हो जाएगा। जब मेट्रो ट्रेन गीता नगर स्टेशन से डिपो के अंदर जाएंगे तो इसी समय डिपो के अंदर जाने से पहले ट्रेन अपने आप खुद ब खुद इनकी सफाई हो जाएगी। द्विन पियर कैप के ऊपर यह ऑटोमेटिक वाशिंग प्लांट तैयार किया जा रहा है।

आपको बता दें कि मेट्रो की धुलाई दो बार होगी एक डिपो में आते समय और दूसरा डिपो दीपू से बाहर जाते हुए और इस तरह से ट्रेनों को प्लांट में रुकने की जरूरत नहीं पड़ेगी। जैसे जैसे ट्रेन आगे बढ़ता जाएगा और वैसे वैसे वाशिंग प्लांट में लगे ब्रश और सावर इसकी सफाई करते रहेंगे । ट्रेनों की धुलाई में इस्तेमाल किए गए पानी को दोबारा इस्तेमाल किया जाएगा। इसके लिए भी प्लांट लगाया जा रहा है आपको बता दें कि जो पानी इस्तेमाल किया रहेगा वह पानी पाइप लाइन से होते हुए वापस डिपो में ले जाया जाएगा।

इस्तेमाल किए गए पानी को रीसायकल करने के लिए अलग-अलग दो ट्रीटमेंट प्लांट लगाए जाएंगे। यह प्लांट इसलिए लगाए जाएंगे ताकि इस्तेमाल किए गए पानी प्लांट से बाहर डिस्चार्ज ना करना पड़े। ऑटोमेटिक वाशिंग प्लांट और ट्रेनों की मेंटेनेंस में से निकले केमिकल युक्त जो पानी होगा इसको रीसायकल करने के लिए 70000 लीटर प्रतिदिन की क्षमता का ईटीपी बनाया जाएगा। इसके अलावा किचन, वॉशरूम और फ्लोर के सफाई में इस्तेमाल किए गए पानी रिसाइकल करने के लिए 10000 लीटर क्षमता का सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने पर भी काम चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.