Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

कानपूर में अब ऑक्सीजन के चलते नहीं टूटेंगी सांसे, हॉस्पिटल्स में शुरू हो गया यह बड़ा काम

कोरोनावायरस महामारी के चलते पूरे देश में ऑक्सीजन की महामारी इस कदर बढ़ गया था कि  कई लोग कि सासे ऑक्सीजन के चलते ही टूट गई । यही नहीं हॉस्पिटल से बेड नहीं मिलने के चलते भी कई लोगों ने अपनी जान गवाई है। अभी मामले काम होने लगे है लेकिन कोरोनावायरस के दूसरे लहर में  हर जगह कहर बरस रहा था। ऐसा लग रहा था कि यह वायरस तबाही मचाने वाली है। कोरोनावायरस का पहला लहर जब आया था तो दूसरे लहर का भी अनुमान लगाया गया और दूसरी लहराई भी आई ठीक इसी तरह तीसरे लहर का भी अनुमान सितंबर से अक्टूबर-नवंबर के बीच में आने का अनुमान लगाया जा रहा है ऐसे में शाशन द्वारा पहले ही पूरी तरह से व्यवस्था के साथ उससे लड़ने के लिए तैयारी कर रही है।

कानपुर में कोरोनावायरस कि तीसरे लहर से से बचने के लिए ऑक्सीजन दूसरे स्टेट से मांगने की नौबत ना पड़े इसके लिए कानपुर मंडल को ऑक्सीजन उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है। कानपुर मंडल के कई हॉस्पिटल्स में ऑक्सीजन प्लांट लगाया जा रहा है। कोरोनावायरस से जुड़े तमाम इंतजामों को देखने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जब कानपुर आए थे तो वायरस से लड़ने के प्रति कितनी तैयारियां हुई है या चल रही है इसी को देखने के लिए कानपुर आए थे। कानपुर में अधिकारियों के साथ बैठक भी किया और तभी ऐलान किया था कि कानपुर को आत्मनिर्भर बनाएंगे।

तीसरे लहर में ऑक्सीजन की कमी ना हो इसके लिए एलएलआर हॉस्पिटल की आपातकालीन वार्ड में लगभग 1000 लीटर और न्यूरोसाइंस वार्ड में 960 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन उत्पादन करने वाली ऑक्सीजन प्लांट का बेस बनाने का काम जारी है। इसी तरह कानपुर के कई हॉस्पिटल्स में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का काम चल रहा है। और कोई हॉस्पिटल में काम शुरू भी हो गया है।

हम आपको बता दें कि कानपुर के पनकी में अशोका इंडस्ट्री द्वारा ऑक्सीजन का प्लांट लगाया जा रहा है जिसमें रोजाना 5 से छह टन ऑक्सीजन  का उत्पादन रोज होगा। इस सीजन प्लांट के तैयार होने में लगभग 2 से 3 माह लग जाएगा और नवीन जैन मलवा स्थित इंडस्ट्रीज में भी 4 से 5 टन उत्पादन वाला ऑक्सीजन प्लांट लगाया  जाएगा। इसी तरह लगभग 10 टन ऑक्सीजन रोज उत्पादन करने वाला एक और प्लांट चकेरी औद्योगिक क्षेत्र में लगाया जाएगा। इस प्लांट के लगाने के लिए यूपीसीडा से जमीन खरीद लिया गया है। खबर के अनुसार यह प्लांट पहले झांसी में लगाया जाना था, लेकिन अभी खबर यह आ रहा है कि अब यह प्लांट चकरी में लगाया जाएगा।

कानपुर के चेस्ट हॉस्पिटल में 1 मिनट में लगभग 650  लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन उत्पादन करने वाला प्लांट लगाया जाएगा। इस प्लांट को लगाए जाने को लेकर शासन से अनुमति मिल गया है। ठीक इसी तरह लगभग 1 मिनट में नव सौ पचास  लिटर ऑक्सीजन उत्पादन करने का प्लांट उर्सला में लगाया जा चुका है। खबर यह भी है कि यहां पर बहुत जल्द एक और प्लांट लगाया जाएगा। कानपुर के काशीराम हॉस्पिटल मैं यहां लगभग 12सौ  लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन उत्पादन वाले  प्लांट को लगाने के लिए बेस  का काम शुरू कर दिया गया है आशा यह है कि यह प्लांट अगले दो-तीन महीने में लग जाएगा।

कानपूर में वैक्सीनेशन कि बढ़ेगी रफ़्तार 

कानपुर के ग्रीन पार्क में बीते कुछ दिनों से एक बहुत बड़ा वैक्सीनेशन का कैंप चल रहा है। इस कैंप का मकसद ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन देना था। इस मेगा वैक्सीनेशन कैंप में रोज लगभग 14 से लोगों को वैक्सीन देने का लक्ष्य रखा गया था। अब खबर यह आ रहा है कि वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाने के लिए लोगों को गाड़ी में बैठे बैठे ही  वैक्सीन दिए जाने को लेकर योजना बनाया जा रहा है यही नहीं दिन और रात वैक्सीनेशन  भी किया जाएगा इस पर भी विचार चल रहा है। हम आप को बता दे की दिन और रात वैक्सीनेशन सिर्फ एक ही दिन के लिए होगा इसका मकसद युवाओं को जागरूक करने को लेकर किया जाएगा। सतीश महाना औद्योगिक विकास मंत्री का कहना है कि वरिष्ठ लोगों के लिए जल्द ही गाड़ी में बैठे बैठे वैक्सीन दिया जाएगा। शहर के स्कूल और ऑफिसों में भी वैक्सीनेशन कराने की तैयारी चल रही है। स्वास्थ विभाग और प्रशासन इसके तैयारी में जुटे हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.