Thursday, September 29UAM - UDYAM-BR-13-0006027

अमेरिका में बैठे मकान मालिक ने कानपुर के घर में घुसे चोरो को कैसे पकड़वाया, गजब की खासियत है घर में लगे सीसीटीवी कैमरों की, तोड़ने के बाद भी करता है काम

कानपुर चकेरी के श्याम नगर के एक मकान में कुछ चोर घुसे आये थे लेकिन मकान मालिक ने अमेरिका से ही चोरों को पुलिस से पकड़वा दिया। घर में घुसे चोरों को पकड़वाने में सीसीटीवी कैमरो का बहुत ही बड़ा हाथ था यह सीसीटीवी कैमरे अमेरिका से लाकर लगाया गया था। घर में लगाए गए सीसीटीवी कैमरे की तकनीक बहुत ही खास है। इन सीसीटीवी की वायर काटने और चोट पहुंचाने के बाद भी कैमरे चलते रहते है। अमेरिका के शिकागो में बैठे आशुतोष अवस्थी ने बताया कि कैसे उन्होंने अपने घर में लगे सीसीटीवी कैमरों की मदद से चोरों को पुलिस से पकड़वाया था।

आशुतोष अवस्थी बताते हैं कि उनकी मां घर में अकेली रहती थी अपने मां की देखभाल के लिए गांव के ही एक आदमी को केयर टेकर रखा था। फिर भी अपनी मां की सुरक्षा के लिए अमेरिका की ब्लिंक कंपनी से सीसीटीवी कैमरा लगभग डेढ़ साल पहले खरीदा था। ब्लिंक कंपनी के कैमरे भारत में बहुत कम ही मिल पाता है। आशुतोष आगे बताते हैं कि कुछ 2 महीने पहले कानपुर आए थे अपनी मां को साथ में ले गए और घर में ताला लगा दिया था। बीते दो-तीन दिन फोन करके बताया कि कोई उनके घर में घुसा है। आशुतोष उस समय ऑफिस में काम कर रहे थे तभी अलर्ट का मैसेज फोन में आया। मैसेज अलर्ट के बाद आशुतोष का ध्यान घर पर जाने लगा। तभी उन्होंने देखा कि कुछ बदमाश कैमरे से होकर छत के रास्ते नीचे फांद रहे थे। घर में घुसे चोर अभी गार्डन में ही थे ,घर के अंदर ही गए थे।

आशुतोष ने बताया कि सीसीटीवी कैमरे का साथ ऑडियो स्पीकर भी घर में लगाए गए हैं जिससे वह केयर टेकर से बातचीत करते हैं। ऑडियो सिस्टम के माध्यम से आशुतोष ने बदमाशों से कहा कि उन्होंने सब कुछ देख लिया है। सावधान करते हुए उसने कहा कि भलाई इसी में है कि वापस लौट जाए। चोरों ने सीसीटीवी कैमरा तोड़ दिया, लेकिन कुछ हिडेन कैमरे चल रहे थे जिस से सब कुछ दिखाई दे रहा था। घर में घुसे चोरों को लेकर उन्होंने पुलिस को जानकारी दिया इसके बाद पुलिस ने मकान को घेर कर एक चोर को पकड़ लिया। आशुतोष ने 3 से ज्यादा चोरों को देखा था लेकिन घर में पुलिस की तलाशी लेने के बाद कोई नहीं मिला।आशुतोष का कहना है कि उन्होंने अपने कैमरे के पैसे वसूल कर लिया। दरअसल कैमरे लगाने में लगभग ₹30 हजार खर्च किए थे। यह ज्यादा रुपए तो नहीं है लेकिन कैमरे की मदद से चोरी की घटना नाकाम हो गयी।

खास तकनीक है सीसीटीवी कैमरों की-
यह सीसीटीवी कैमरे रात दिन तो चलते ही है इनके सबसे अच्छी खासियत यह है कि इन्हें मारकर खराब नहीं किया जा सकता है। इन में ऑडियो स्पीकर लगा लगा होता है जिसके मदद से कहीं से भी अपनी आवाज पहुंचाया जा सकता है। ऑडियो के वजह से चोरों ने कैमरा को तोड़ने की कोशिश किया लेकिन कैमरे को कोई नुकसान नहीं हुआ और कैमरे लगातार काम करते रहे। यहां तक कि चोरों ने कैमरे का तार भी काट दिया था ताकि संपर्क टूट जाये लेकिन कैमरों में एक्स्ट्रा बैटरी लगी होती है जिससे कैमरे चालू रहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.