Friday, September 23UAM - UDYAM-BR-13-0006027

अब बाजार में मिलेगा शरीफा से बना एनर्जी ड्रिंक , डायबिटीज और कैंसर से रखेगा दूर

हमने बहुत से फलका ड्रिंक बनते हुए देखा होगा और पिया भी है लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि शरीफा का भी जूस बन सकता है। अगर नहीं सुना है तो आप बिल्कुल सही है लेकिन आपको बता दें कि अब आप बहुत जल्द शरीफा से बने ड्रिंक का आनंद अब साल भर ले सकेंगे।दरअसल बीएचयू में शरीफा से एक एनर्जी ड्रिंक तैयार किया गया है। यह ड्रिंक भरपूर ताजगी देने के साथ साथ डायबिटीज और कैंसर से भी बचाने में बहुत मददगार साबित होगा। इस ड्रिंक को बहुत ही जल्द इंसानों पर डायल करके बाजार में लाया जाएगा।

आपको बता दें कि बीएचयू के दुग्ध एवं खाद्य प्रौद्योगिकी के इस विभाग में शरीफा के गूदे से पल्प पाउडर तैयार किया गया है ऐसा पहली बार स्प्रे डाइंग तकनीक के इस्तेमाल से तैयार किया गया है। इसको बनाने के लिए 100 ग्राम पाउडर 1 लीटर पानी में मिलाकर तैयार किया जा सकेगा।इसके प्री क्लिनिकल ट्रायल में यह पाया गया कि इसे पीने से ब्लड शुगर का लेबल भी सामान्य रहता है ।

बीएचयू में खाद्य प्रौद्योगिकी विभाग के अध्यक्षो के द्वारा एलेक्सस ड्रग कुछ स्वस्थ चूहों को दिया गया और उन्हें मधुमेह से पीड़ित बनाया गया। उसके बाद रोज कस्टर्ड एप्पल का ड्रिंक आधे चूहों को रोज दिया जाता रहा और बाकी आधे को नहीं दिया गया। इसके बाद हैरान करने वाली बात सामने आई, आपको बता दे कि जिन चूहों को रोज ड्रिंक दिया जाता था उनका ब्लड शुगर का लेवल सामान्य 3 सप्ताह में हो गया और वही बाकी चूहों के ब्लड शुगर लेवल की बात करें तो काफी ऊंचा हो गया था। खुशी की बात यह है कि बहुत ही जल्द इंसानों पर ट्रायल की तैयारी किया जा रहा है।

दो से तीन घंटे लगते है बनने में 

डॉक्टर अभिषेक त्रिपाठी के बताने के अनुसार स्प्रे ड्रायर में 2 से 3 घंटे में यह ड्रिंक तैयार होता है। सबसे पहले शरीफा का गूदा निकाला जाता है जिसके बाद इसका रंग भूरा ना हो इसके लिए गर्म पानी में धोया जाता है। जैसे सेब को काटने के बाद उसका रंग लाल होने लगता है ठीक वैसे ही शरीफा भी कटने के बाद लाल होने लगता है। पल्पर की सहायता से बीज और गुद्दे को अलग किया जाता है उसके बाद गुदे को पीस लिया जाता है इसके बाद इसमें 7 परसेंट माल्टो डेक्सिट्रिन मिलाया जाता है तैयार किए गए मिश्रण को स्प्रे ड्रायर मशीन में 2 से 3 घंटे के लिए सुखाया जाता है जिसके बाद पल्प पाउडर की वैक्यूम पैकिंग कर दीया जाता है। त्रिपाठी जी के बताने के अनुसार 150 से 200 ग्राम पल्प पावडर 1 किलो शरीफा से तैयार होता है।

 

बहुत जल्द बाजार में लेन की तयारी

उत्तर प्रदेश में मिलने वाला प्रमुख शरीफा मौसमी फल है आप जान लीजिए कि शरीफा बहुत ही जल्द सड़ जाता है कटाई के बाद करीब अधिक से अधिक 2 से 3 दिन तक यह सही रह सकता है। शरीफा में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर, एंटी ऑक्सीडेंट, विटामिन, खनिज और फाइटोन्यूट्रिएंट्स जैसे तत्व इसमें भरपूर मात्रा में होता है।

अगर इसका स्टोरेज करने का जगह सही ना हो तो जल्दी खराब हो जाता है जिसके कारण किसानों को काफी ज्यादा नुकसान होता है। इस तकनीक को किसानों तक भी पहुंचाया जाएगा, शरीफ आपने नमी के कारण बहुत जल्द खराब हो जाता है और इसके नमी को खत्म करना बेहद मुश्किल था इसे बहुत ही जल्द इंसानों पर ट्रायल करने के बाद बाजार में लाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.